Bodhgaya me kya dekhe, Bodhgaya tourist places

Places To Visit In Bodhgaya In Hindi

Places To Visit In Bodhgaya In Hindi

बोधगया बिहार का एक काफी अच्छा बोद्ध धार्मिक स्थल है जो की पटना से लगभग 135 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है । हमारे देश में कुल चार बोद्ध स्थल मुख्य है जिनमे से एक है बोधगया , बाकि तीन कुशीनगर, लुम्बिनी और सारनाथ है । बोधगया बिहार के गया जिले का एक बोद्ध तीर्थ स्थल है । बोधगया में ही गौतम बुद्ध को एक पेड़ के नीचे ज्ञान प्राप्त हुआ था इस जगह पुरे विश्व भर से पर्यटक गौतम बुद्ध के मंदिर और उनसी जुडी जानकारी प्राप्त करने के लिए आते रहते है । इस जगह को यूनेस्को की विश्व विरासत में भी शामिल किया गया है ।

How to Reach Bodhgaya बोधगया केसे पहुचे

बोधगया बिहार का ही बहुत फेमस स्थान होने के कारन यहां पहुचने में आपको किसी प्रकार की समस्या नही होती है आप इस तरह से बोधगया जा सकते है

Bodhgaya By Flight बोधगया हवाई जहाज द्वारा

बोधगया एक बहुत ही फेमस स्थान है । बोधगया जाने के लिए यहा का सबसे निकटतम हवाई अड्डा गया में है जो कि बोधगया से लगभग 17 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है । गया में कोलकता और कुछ स्थानों से हवाई जहाज उपलब्ध रहती है । इसके अलावा बोधगया जाने के लिए देश के ज्यादातर शहरो से जुड़ा हवाई अड्डा है पटना का जो बोधगया से 135 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है । यहा से आसानी से आपको टेक्सी मिलेगी जो आपको बोधगया छोड़ देगी ।

Bodhgaya By Train बोधगया ट्रेन द्वारा

बोधगया देश के कई हिस्सों से ट्रेन से जुड़ा हुआ है इसके लिए बोधगया का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन गया में है जो कि बोधगया से 13 किलोमीटर कि दुरी पर स्थित है। यहा रेलवे स्टेशन के बाहर से आप ऑटो लेकर बोधगया ट्यूर के लिए निकल सकते है ।

Bodhgaya By Bus बोधगया बस द्वारा

बिहार स्टेट की बस पर्यटकों को बोधगया एक्सप्लोर करवाने के लिए हमेशा तैयार रहती है । बिहार के कई हिस्सों से बस गया और बोधगया के लिए हमेशा मिल जाती है । इसके अलावा लक्जरी बस नालंदा , वाराणसी , काठमांडू आदि स्थानों से पटना के लिए मिल जाती है पटना पहुचने के बाद आप गया के लिए बस पकडकर बोधगया को एक्सप्लोर कर सकते है ।

हमारे अन्य लेख यहा पढिये

Tawang Valley

Gangtok

Darjeeling

Food Of Bodhgaya बोधगया का खाना

बोधगया आपको खाने की उत्तम क्वालिटी प्रदान करता है यहाँ आप शाकाहारी भोजन से लेकर मांसाहारी भोजन का लुफ्त उठा सकते है जब आप बोधगया में है तब यहा के स्ट्रीट फ़ूड का आनंद भी ले सकते है ।

Where To Stay At Bodhgaya बोधगया में कहा ठहरे

बोधगया में भारत के बाकि हिस्सों की अपेक्षा कमरे काफी सस्ते मिल जाते है । अक्टुम्बर से लेकर मार्च के बीच आपको यह पर रूम 500 रूपये में आसानी से मिल जाता है । बाकि समय में यहा थोड़ी गर्मी रहती है अतः आपको अगर वातानुकूलित रूम की जरूरत है तो वो लगभग 1200 रूपये में मिल जाता है ।

Best Weather For Bodhgaya बोधगया किस मौसम में जाये

बोधगया में अक्टुम्बर से लेकर मार्च के मध्य यहा का तापमान 10 डिग्री से 22 डिग्री के मध्य रहता है । इस कारण से यहा का मौसम काफी सुहावना होता है बाकि समय में यहाँ थोड़ी गर्मी रहती है जिसमे अगर आप बोधगया की यात्रा पर गए है तो छाते का प्रयोग जरूर करे ।

Things To Do In Bodhgaya बोधगया में क्या करे

बोधगया में श्राद का बहुत बड़ा महत्व है यहा लोग आपको पूजा अर्चना करते हुए दिखाई दे जाते है । पितृ दोष जेसे कारणों का निवारण करने लोग यह पूजा अर्चना करवाने पुरे भारत से आते  है ।

 

Bodhgaya Tourist Places बोधगया में घूमने की जगह

बोधगया अपने आप में बिहार का ऐसा स्थान है जहा आपको बोद्ध धर्म के अनुयायी सबसे ज्यादा मिलेंगे । यह बहुत से स्थान है जहा आप आराम से घूम सकते है उन्ही में से कुछ एस प्रकार है

Mahabodhi Temple Bodhgaya महाबोधि मंदिर बोधगया

महाबोधी मंदिर बहुत गया का सबसे मुख्य आकर्षण है क्योंकि यहाँ पर राजकुमार सिद्धार्थ ने ज्ञान प्राप्त किया और वो राजकुमार सिद्धार्थ से गौतम बुद्ध बने । इस मंदिर का निर्माण सम्राट अशोक ने तीसरी शताब्दी में करवाया था यह मंदिर पूर्णतया ईंटो से निर्मित है । महाबोधि मंदिर की ऊंचाई  लगभग 55 मीटर है । यह मंदिर सुबह 5:00 बजे से दिन में 12:00 बजे तक और शाम के समय 4:00 बजे से लेकर रात्रि 9:00 बजे तक पर्यटकों के लिए खुला रहता है । इस मंदिर को महान जागृति मंदिर भी कहा जाता है ।

Mahabodhi Tree Bodhgaya महाबोधि पेड़ बोधगया

महाबोधि मंदिर में ही महा बोधि पेड़ है जिसके नीचे बैठकर राजकुमार सिद्धार्थ ने ज्ञान प्राप्त किया था । राजकुमार सिद्धार्थ ने इस पेड़ के नीचे सात दिनों तक ध्यान किया । इस पेड़ के पास में एक छोटा मंदिर भी बनाया गया है जिसका निर्माण सात वीं शताब्दी में किया गया था । बोधगया आने वाले पर्यटक महा बोधि पेड़ के दर्शन करने जरूर जाते हैं ।

Bodh Statue Bodhgaya बौद्ध प्रतिमा बोधगया

बोधगया मैं भगवान बुद्ध की 64 फिट ऊंची एक प्रतिमा स्थापित की गई है इस प्रतिमा में भगवान बुद्ध कमल पर आशित है भगवान बुद्ध की इस प्रतिमा को बलुआ पत्थर और लाल ग्रेनाइट से बनाया गया है ये मूर्ति खोखली है इसके अंदर सीडियां बनी हुई है इस प्रतिमा के अंदर भगवान बुद्ध से संबंधित की छवियाँ प्रतिशत की गई है इस प्रतिमा को 1989 में दलाईलामा द्वारा स्थापित किया गया था यह प्रतिमा देखने में बहुत ही सुंदर और आकर्षित है ।

Thai Monastery Bodhgaya थाई मोनास्ट्री बोधगया

बोधगया में ही थाई मोनास्ट्री है जहा पर 25 मीटर ऊंची भगवान बुद्ध की कांस्य की प्रतिमा स्थापित की गई  है । भारत के अन्य मठों की तरह ही बोधगया के मठ भी असाधारण और अतुलनीय  वास्तुकला का एक सुंदर उदाहरण प्रस्तुत करता है । बौधगया की इस थाई मोनास्ट्री में आप आकर कुछ देर आराम से मौन आसन लगा सकते हैं ।

Muchalinda Lake Bodhgaya मुझलिंडा झील बौधगया

मुझलिंडा झील बौधगया मंदिर के पास में ही स्थित है । इसको कमल तालाब के नाम से भी जाना जाता है । इस झील में भगवान बुद्ध की एक प्रतिमा है जिसमें भगवान बुद्ध ध्यान मुद्रा में एक कुण्डलीनुमा साँप पर बैठे हुए हैं । ऐसा कहा जाता है कि जब भगवान बुद्ध झील के किनारे पर ज्ञान प्राप्त कर रहे थे तो एक तूफान आया उस तूफान से बचाने के लिए नागराजा मुझलिंडा ने उस तूफान से उनको बचाया । इस झील में आप किनारे पर बैठकर मछलियों को दाना डालकर पुणे का काम भी कर सकते हैं ।

Royal Bhutan Monastery रॉयल भूटान मोनेस्ट्री

अगर आपको शांतिपूर्ण स्थान की आवश्यकता है और आप वहाँ पर ध्यान लगाना चाहते हैं तो रॉयल भूटान मिनिस्ट्री  बहुत गया मैं इसके लिए सर्वश्रेष्ठ जगह है इस मठ का निर्माण भगवान बुद्ध को श्रद्धांजलि देने के लिए किया गया था यहाँ पर आपको मिट्टी की नक्काशी से निर्मित मठ अपनी ओर आकर्षित करेगा यहाँ पर भगवान बुद्ध की सात फिट की ऊंची प्रतिमा स्थापित की गई है ।

Brahmayoni Temple Bodhgaya ब्रह्म योनी मंदिर बोधगया

बोधगया का ब्रह्म योनी मंदिर अष्टभुजा देवी का एक प्राचीन मंदिर है । जहा पर मंदिर के साथ साथ दो गुफाएं भी स्थित है । इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको लगभग 420 सीडिया चढ़कर जाना होगा । ऐसा कहा जाता है कि इस मंदिर पर भगवान बुद्ध ने 1000 साल पूर्व तपस्वियों को अग्नि प्रवचन का उपदेश दिया था ।

Vishnupad Temple BodhGaya विष्णुपद टेम्पल गया

गया की फाल्गु नदी के तट पर बसा है भगवान विष्णु को समर्पित विष्णुपद मंदिर यह मंदिर बहुत ही प्राचीन मंदिर है,जिसे धर्मशीला के नाम से भी जाना जाता है ।  इस मंदिर के गुंबद पर 50 किलो सोने का एक झंडा स्थापित किया गया है । फाल्गु नदी के तट पर बसे होने के कारण यहाँ पर श्राद पक्ष में पूजा की जाती है । इस मंदिर मैं आपको पूरे भारत वर्ष से श्रद्धालु दिखाई देंगे जो श्राद करवाने के लिए आते है । इस मंदिर में 40 सेंटीमीटर लंबे पद चिन्ह भी  हैं जो कि चांदी की प्लेटों से बनाए गए  हैं ।

Jama Masjid Bodh Gaya जामा मस्जिद बोधगया

बोधगया की  जामा मस्जिद बिहार की सबसे बड़ी मस्जिद में से एक है । यह मस्जिद 200 साल पुरानी मस्जिद है । इस मस्जिद का निर्माण मुजफ्फरपुर शाही परिवार ने नमाज़ अदा करने के लिए करवाया था ।दोस्तो हमारा एक यु ट्यूब चेनल भी है जहाँ आप देश के टूरिस्ट प्लेसेस के बारे में वीडियो देख सकते है ।

तो दोस्तों ये था हमारा बोधगया का आर्टिकल , ये आपको केसा लगा हमें कमेन्ट करके जरूर बताए.

 

Related Articles 

Top 10 jain Temple in india in Hindi | भारत के प्रसिद्ध जैन के बारे में जानकारी

Best Places to Visit in Madurai in Hindi

Vaishno Devi Yatra In Hindi | वैष्णो देवी मंदिर यात्रा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

Mysterious Temple in India In Hindi

Haridwar Tour In Hindi | तीर्थनगरी हरिद्वार में क्या देखने लायक हैं?

The 15 Famous Temples To Visit In India In Hindi

Mathura Vrindavan Complete Tour Guide In Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *